Now you can read this page in English.Change language to English

फाउंडर्स एग्रीमेंट


फाउंडरस एग्रीमेंट कंपनी के फाउंडर्स के बिच साइन होता है, यहाँ पर फाउंडर्स के रोल, रेस्पॉन्सिबिलिटीज़, शेयर्स और एग्जिट के बारे में लिखा होता है। अगर आप को भी कंपनी के लिए फाउंडर्स एग्रीमेंट बनवाने हैं तो आज ही वकिलसर्च से संपर्क करें

राज्य चुनें*
Get easy updates throughWhatsapp

आसान मासिक ईएमआई विकल्प उपलब्ध हैं

कोई स्पैम नहीं। कोई साझाकरण नहीं। 100% गोपनीयता।

noimage400,000 +

व्यापार सेवित

noimage4.3/5

गूगल रेटिंग्स

noimageसरल

पेमेंट ऑप्शन

आप फाउंडर्स एग्रीमेंट कैसे बनवाएंगे?

फाउन्डर (संस्थापक) का एग्रीमेंट फाउन्डर टीम की रोल और रिस्पान्सबिलिटी को स्थापित करता है;
कैपिटल ओनरशीप और इंटेलेक्चूयल प्रापर्टी ओनरशीप

noimage
हम सर्वश्रेष्ठ अटॉर्नी के साथ काम करते हैं

हमारे वकील आपसे संपर्क करेंगे

चरण 1

noimage
noimage
आपके डाक्यूमेंट का ड्राफ्ट तैयार किया जायेगा|

पहला ड्राफ्ट चार दिनों में आपके साथ शेयर किया जाएगा

चरण 2

noimage
noimage
अमेंडमेंट फ़्री हैं!

बिना किसी एक्सट्रा कास्ट के इटरेशन के दो राउंड मिलते है|

चरण 3

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट एक नज़र

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट एक आफिसिएल कांट्रेक्ट या बिजनेस स्थापित करते समय करते है कंपनी के को-फ़ाउंडर्स के बीच कार्यान्वित एक लीगल एग्रीमेंट है। यह एग्रीमेंट रोल, राइट और ड्यूटीज़, रिस्पान्सिबिलिटी, ओनरशीप, लाएबिलिटी और प्रत्येक फ़ाउंडर के इन्वेस्ट रेसीओ को क्लियर करता है।

एक फ़ाउंडर एग्रीमेंट रिटेन फार्मेट में किया जाना चाहिए न कि ओरल।

दो या दो से अधिक पार्टनर ज्वाइंट रूप से फ़ाउंडर्स के एग्रीमेंट में प्रवेश कर सकते हैं जिसको – पार्टनर कहा जाता है।

सभी को-फ़ाउंडर्स बिजनेस या कंपनी को शामिल करते हुए एग्रीमेंट में एंटर करते है।

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट का उद्देश्य (गोल) बिजनेस के संबंध में विवादों से बचना है जो को-फ़ाउंडर्स के बीच समय के साथ उत्पन्न हो सकते हैं। इस एग्रीमेंट ने स्पष्ट रूप से फ़ाउंडर्स की स्ट्रेटजी तय की है जिन्हें एम्बिशन के भीतर कार्य करना चाहिए और निसेसरी रूल् का पालन करना चाहिए।

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट को-फ़ाउंडर्स की मृत्यु जैसी अनिश्चित घटनाओं से निपटने में भी मदद करते हैं इस्तीफा जो सीधे बिजनेस या फर्म के निरंतर विकास और अच्छे से चलने को इंप्रेस करता है।

एक फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट के लाभ

बीजिनेस यूनिट के प्रकार का निर्धारण -

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट में को-फ़ाउंडर्स द्वारा स्थापित किए जाने वाले स्वभाव और प्रकार की यूनिट का क्लीयर मेंशन होता है जिससे अच्छे रूल का पालन किया जा सके।

मेंसन-बिजनेस प्लान

यह यूनिट के दृष्टिकोण (Entity approach) और मिशन का डिस्कराइव करता है और समय की अवधि में प्राप्त होने वाले शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म एम (aim) को रेट करता है।

डेजीग्नेट रोल्स और रिस्पान्सिबिलिटीज

जाहिर है को-फ़ाउंडर्स के बीच ओवरलैपिंग रोल्स और कार्य होंगे | जो प्रेस्क्राइब्ड रोल्स का प्रापर स्ट्रक्चर नहीं होगा। इसलिए को-फ़ाउंडर्स की भूमिकाओं और जिम्मेदारियों को रेट करना महत्वपूर्ण है बिजनेस , संचालन , फाइनेंस , आदि जैसे उनके ओनर के क्षेत्र के अनुसार।

ओनरशिप कंस्ट्रकशन

फ़ाउंडर् एग्रीमेंट में क्लियरली किसी कंपनी के मामले में को-फाउंडर द्वारा रखे गए को -फाउंडर द्वारा किए गए इक्विटी शेयरों के पर्सेंटेज से संबंधित ओनरशिप कंस्ट्रकशन क्लीयर होती है जिससे उनके बीच फ्यूचर के किसी भी टकराव से बचा जा सके।

निर्णय लेना

एक निश्चित समय पर को-फ़ाउंडर्स के बीच एक स्ट्रगल होगा | इसलिए इन स्ट्रगल को प्रापर डीसीजन लेने की प्रासेस के माध्यम से कंट्रोल किया जाना चाहिए। यहां फ़ाउंडर्स का एग्रीमेंट डीसीजन प्रासेस के दौरान पालन की जाने वाली प्रासेस तैयार करता है । यदि वोटिंग सिस्टम को अपनाया जाता है तो उसे प्रत्येक फ़ाउंडर् के लिए वोटों के वेलयु को डिफ़ाइन करना चाहिए और गतिरोध की स्थिति में सोल्युशन प्रदान करना चाहिए।

कंपेनसेशन प्रोविजन्स

इस एग्रीमेंट ने कंपेन्सेशन की प्लान को आगे बढ़ाया है अगर किसी को-फ़ाउंडर्स ने अनिवार्य प्रोविजन्स का उल्लंघन किया है। यहां किए जाने वाले मुआवजे के रेसीओ का उल्लेख प्रत्येक को-फ़ाउंडर्स के लिए किया जाएगा।

को-फ़ाउंडर्स का रिमुवल

किसी भी को-फ़ाउंडर्स को कंपनी से धन के दुरुपयोग, यौन उत्पीड़न, और संगठनों के साथ अन्य धोखाधड़ी गतिविधियों में लिप्त होने के लिए निकाला जा सकता है। यह एग्रीमेंट इन सिचुएशन से निपटने के तरीके पर एक अच्छी स्ट्रक्चर सुनिश्चित करता है और रिमूव को-फ़ाउंडर्स को वापस किए जाने के लिए उपयुक्त धन की कमी (रिड्युसिंग) करता है।

प्राइवेसी

फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट में प्राइवेसी पर एक अलग ब्लाक है| जो फ़ाउंडर्स के लिए एक लाएबिलिटी बनाता है कि वे बिजनेस के सेक्रेसी को ओपेंन न करें।

चेकलिस्ट - फ़ाउंडर् एग्रीमेंट के प्रमुख प्रोविजन्स

इक्विटी ओनरशिप

एक फ़ाउंडर् एग्रीमेंट के सबसे महत्वपूर्ण प्रोविजन्स में से प्रत्येक कंपनी के को-फ़ाउंडर्स के इक्विटी ओनरशिप का सीमा-निर्धारण कर रहा है। यह इक्विटी ओनरशिप विभिन्न कारकों जैसे कि इन्वेस्ट किए गए मनी एक्सपोज़र आदि पर विचार करके डिटरमाइन किया जाता है । यह प्रत्येक को-फ़ाउंडर्स के मतदान के अधिकार क्षेत्र का मूल्यांकन करता है।

शेयरों की वेस्टिंग

यदि फ़ाउंडर्स में से कोई भी कंपनी से बाहर निकलता है तो शेयरों को साझा करने के एक प्रापर पैटर्न को एग्रीमेंट में कैंसल किया जाना चाहिए। शेयरों की वेस्टिंग दो तरीकों से की जा सकती है, वे हैं;

  • समय-आधारित निहित- इस रूल के अनुसार फ़ाउंडर्स के शेयरों को उनके द्वारा निवेश किए गए वर्षों की पीरियड के रेसीओ वेस्टेड किया जाएगा। यदि किसी भी फ़ाउंडर् को उसके कार्यकाल की समाप्ति से पहले कंपनी से राहत या बेदखल कर दिया गया है, तो बकाया शेयर कंपनी को वापस कर दिए जाएंगे। यहां फ़ाउंडर् के प्रदर्शन को ध्यान में नहीं रखा जाएगा।
  • माइलस्टोन वेस्टिंग- इस सिस्टम के तहत कंपनी द्वारा हासिल किए गए मील के पत्थर के संबंध में शेयरों को निहित (Contained) किया जाता है । यदि फ़ाउंडर् इस मील का पत्थर हासिल करने से पहले कंपनी से बाहर निकलता है तो उपरोक्त फ़ाउंडर् के शेयरों को उसके साथ शामिल नहीं किया जाएगा।

कंसोलाइडेटेड (संगठित) ट्रांसफर ऑफ शेयर -

इस फ़ाउंडर् एग्रीमेंट के शेयरों के प्रतिबंधित (रेसट्राइकटेड) ट्रांसफर से रिलेटेड एक और महत्वपूर्ण ब्लाक होना चाहिए। यह लॉक -इन अवधि का एक ब्लाक प्रदान कर सकता है| जो संस्थापक को उसके कार्यकाल की समाप्ति से पहले निश्चित अवधि के लिए उसके शेयरों को हस्तांतरित नहीं करने का आदेश देता है। इसी तरह फ़ाउंडर् के शेयरों के मूल्यांकन की विधि को उसके कार्यकाल की समाप्ति से पहले हल किया जाना चाहिए।

एलाटेड ऑफ इंटेलेक्चुएल प्रापर्टी

  • व्यक्ति द्वारा बनाए गए नये विचारों या आविष्कारों से होने वाले लाभों का आनंद लेते हैं और यह उसकी संपत्ति है। इसलिए इस एग्रीमेंट में स्पष्ट रूप से कहा जाना चाहिए कि को-फ़ाउंडर्स द्वारा विकसित इंटेलेक्चुएल प्रापर्टी अधिकार कंपनी द्वारा ओनरशिप में हैं। और किसी भी मैटर की घटना पर यह किसी भी व्यक्ति द्वारा अंयुजमेंट नहीं किया जा सकता है।
  • अधिकांश कंपनियां शुरू में को-फ़ाउंडर्स के नाम पर इंटेलेक्चुएल प्रापर्टी प्राप्त करेंगी। बाद में यह कंपनी के नाम को सौंपा गया है। कंपनी का मूल्यांकन इंटेलेक्चुएल प्रापर्टी द्वारा रेट किया जाता है जिसमें एग्रीमेंट में खंड (block) भी शामिल है जो भविष्य के विवादों से बचाता है।

मोडरेशन ऑन ट्रेड

इस रूप में एक एग्रीमेंट किया जाना चाहिए कि कोई भी फ़ाउंडर् कंपनी के गोल के साथ स्टृगल करने वाली एक्टिविटीज़ में शामिल नहीं होना चाहिए। एक्जामपल के लिए यदि किसी भी संस्थापक ने कंपनी से रिलीफ़ देने का फैसला किया है तो उसे बाहर निकलने की तारीख से निर्धारित वर्ष के लिए किसी भी कंपटिटिव बीजिनेस में अटैच नहीं होना चाहिए।

को-फ़ाउंडर्स के एम्प्लोयमेंट की शर्तें

को-फ़ाउंडर्स का रोजगार कंपनी के साथ पूर्णकालिक होना चाहिए। इस एग्रीमेंट में प्रत्येक संस्थापक को रोजगार, उनकी भूमिका, क्षतिपूर्ति और लाभ की शर्तों को स्पष्ट करना चाहिए। को-फ़ाउंडर्स के बीच एम्प्लायमेंट की कंडीसन्स के बारे में अलग-अलग कंट्रैक्ट हो सकते हैं, जिसमें उनके अलोवेंस और प्राफ़िट इंकलूड हैं।

डिसप्यूट रिजोल्यूशन

को-फ़ाउंडर्स के बीच उत्पन्न होने वाले किसी भी डिसप्यूट के मामले होते है डिसप्यूट रिजोल्यूशन मैकेनिजम का एक सूटेबल तरीका होना चाहिए उपस्थित होने के लिए। उदाहरण के लिए यदि -फ़ाउंडर्स कंपनी को समाप्त करने के लिए आपसी रूप से सहमत हैं तो इस डिसप्यूट को साल्व करने के लिए सबसे पसंदीदा विकल्प मिडीएशन आदि है।

फाउंडर् के एग्रीमेंट को फरमेटेड करने की प्रासेस

फाउंडर् के एग्रीमेंट को प्रारूपित करने की प्रक्रिया में फालोविंग स्टेज इंकलुड़ हैं |

  • फाउंडर् के एग्रीमेंट का ड्राफ्ट कंपनी के उद्देश्यों , कंडीशंस, और को-फ़ाउंडर्स द्वारा फालों की जाने वाली कंडीशंस जैसे सभी आवश्यक फील्ड को इंकलुड़ करके तैयार किया गया है।
  • ड्राफ्टिंग प्रक्रिया पूरी होने के बाद जांच लें कि क्या सभी अनिवार्य प्रपोज़ल शामिल नहीं किए गए हैं जिनमें कोई अनकलीयर ब्लाक नहीं है।
  • यदि निसेसरी हो तो एक्स्ट्रा जानकारी जोड़ें जो एग्रीमेंट में प्रसेंट की जानी है।
  • लास्ट ड्राफ्ट को सभी को-फ़ाउंडर्स द्वारा असेप्ट किया जाना चाहिए कि उपरोक्त एग्रीमेंट की असेप्टेन्स के साथ इसकी जांच की गई है।
  • एक बार सभी को-फ़ाउंडर्स एग्रीमेंट पर सहमत हो गए है तो इसे नन – जुडीसिएल स्टाम्प पेपर पर नोटरी किया जाना चाहिए।
  • नोटरी करने के बाद एग्रीमेंट पर सभी को-फ़ाउंडर्स के सिग्नेचर प्राप्त करें।
  • एग्रीमेंट में प्रवेश करने से पहले विवादों से बचने के लिए एक्सपरटाइज गाइड प्राप्त करें।

फ़ाउंडर् एग्रीमेंट को तैयार करने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट

फ़ाउंडर् एग्रीमेंट के लिए केवल बहुत कम डाक्यूमेंट की आवश्यकता होती है, वे हैं;

  • सभी को-फ़ाउंडर्स के नाम।
  • को-फ़ाउंडर्स का पता विवरण
  • साक्षी (witness)
  • प्रत्येक को–फ़ाउंडर के इक्विटी शेयरों की संख्या।
  • प्रत्येक को–फ़ाउंडर के शेयरों का ओवर आल प्रसेंटेज
  • कंपनी का एक क्लियर उद्देश्य।

क्यों Vakilsearch

प्रतिमाह 1K कंपनियां

हमारी टेक्निकल कैपसिटी और लीगल प्रोफेशनल की टीम है | जिसके स्पेसिएलाइज का प्राफ़िट हर महीने 1000 से अधिक कंपनियों और एलएलपी के लिए लीगल वर्क कंप्लीट करते हैं। कृपया बोर्ड पर आए और आराम और सुविधा का अनुभव करें!

रिएलिस्टिक एक्सपेक्टेशन

सभी पेपर वर्क से निपटने के लिए हम सरकार के साथ एक सहज इंटरैक्टिव प्रासेस श्योर करते हैं। हम रिएल एक्सपेक्टेशन को निर्धारित करने के लिए इंकार्पोरेशन प्रासेज पर क्लिएरिटी प्रदान करते हैं।

300 स्ट्रांग टीम

300 से अधिक एक्सपेरिएन्स बीजिनेस एड्वाइजर और लीगल प्रोफेशनल की एक टीम के साथ है | आप कानूनी रूप से सर्वश्रेष्ठ से सिर्फ एक फोन कॉल दूर हैं|

आज ही संपर्क करें
राज्य चुनें*

आसान मासिक ईएमआई विकल्प उपलब्ध हैं

कोई स्पैम नहीं। कोई साझाकरण नहीं। 100% गोपनीयता।