एक कंपनी के मेमोरेंडम ऑफ़ एसोसिएशन में कैसे चैंजेस करें

Last Updated at: Jul 21, 2020
0
441
एक कंपनी के मेमोरेंडम ऑफ़ एसोसिएशन में कैसे चैंजेस करें

यदि आप अपने कंपनी की एमओए मे परिवर्तन करना चाहते है तो यह ब्लाग आपको काफी हेल्प करेगा | हम आसानी से जान पाएंगे की MoA में किसी बिजनेस  का नाम कैसे बदल सकते हैं ? हम  MoA में किसी कंपनी के रजिस्टर कार्यालय को कैसे बदलते हैं ? वस्तुओं खण्ड में संशोधन किया जा सकता है एमओए ? लेखन के इस भाग का उद्देश्य यह स्पष्ट करना है कि किसी बिजनेस के एडवरटाइज़  में रिवाइज कैसे किया जा सकता है। 

हमेशा की तरह आप स्टार्टअप, पंजीकरण या पर पेशेवर मदद के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो  अनुपालन हमारी सेवाओं ब्राउज़ करें 

एमओए में नेम चेंज 

यह एक स्पेशल प्रस्ताव पास  होने के बाद होता है।  प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या पब्लिक कंपनी के मामले में यदि संबन्धित नाम को बदलना है तो केंद्र सरकार की मंजूरी की आवश्यकता नहीं है। हालाँकि  किसी अन्य मामले में  केंद्र सरकार की एग्रीमेंट आवश्यक है। इसके एडिशनल यदि कंपनी को ऐसे नाम के साथ रजिस्टर किया जा रहा है जो किसी मौजूदा कंपनी के साथ इक्वेलिटी रखता है तो केंद्र सरकार एक नेम चेंज के लिए कदम उठाएगी। एक सिंपल रिजोल्यूशन ऐसे मामलों में पर्याप्त है

रेंरजिस्टर्ड आफिस का परिवर्तन – 

यदि कंपनी के रजिस्टर्ड ऑफिस को एक स्टेट  से दूसरे स्टेट में स्थानांतरित किया जा रहा है तो MoA में बदलाव का एक और कारण होता है। रजिस्टर्ड ऑफिस को बदलने के कुछ कारण हैं:

  1. प्रोफेशनल और फाइनेंसिएल तरीके से बिजनेस का संचालन करने के लिए
    2. कंपनी के एक निश्चित उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए
    3. वर्तमान स्थान में अपने कार्यों का विस्तार और विकास करना मौजूदा वस्तुओं का मैनेजमेंट करना  5. अन्य कंपनियों , लोगों के साथ मर्ज  करना
  2. बिजनेस का एक शेयर बेचने के लिए |

    इनमें से किसी भी मामले में एक विशेष प्रपोज़ल अप्रूवड़ किया जाना चाहिए और कंपनी लॉ बोर्ड से अप्रूवल लेने की आवश्यकता है। चेंज्ड  एमओए को उस स्टेट के रजिस्ट्रार के पास फाइल किया जाना चाहिए | जिस कंपनी को स्थानांतरित (मुव) किया जा रहा है। एक बार कंपनियों के रजिस्ट्रार से एक्सपेकटिड अप्रूवल प्राप्त  करना होता है| इसके बाद  एमओए में उस सिचुएशन के अनुसार चेंज किया जाना चाहिए जहाँ  रजिस्टर्ड ऑफिस रखा गया है।

क़ानूनी सलाह लें

ऑब्जेक्ट क्लॉज चेंज करना

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मामले में ऑब्जेक्ट क्लॉज में चेंजिंग  बिना किसी प्राबलम के किया जा सकता है। हालाँकि अगर वही किया जाए जो किसी कंपनी के लिए है जिसने पब्लिक फंडिंग से पैसे जुटाए हैं तो उसे एक विशेष रिज़ॉल्यूशन की ज़रूरत होती है  जिसे अंग्रेज़ी में न्यूजपेपर में और उस स्थान की दूसरी लोकल लंगवेज़ में पब्लिस करना होगा | जहाँ रजिस्टर्ड कंपनी स्थित है। डिटेल को उचित जस्टीफ़िकेशन और मोड़िफिकेशन के साथ कंपनी की वेबसाइट पर भी अवैलेबल कराया जाना चाहिए।

साथ ही  भारतीय सिक्योरिटी और एक्सचेंज बोर्ड के नियमों के तहत  जो लोग बाहर निकलना चाहते हैं उन्हें कंपनी के प्रमोटरों और अन्य शेयरहोल्डेर्स द्वारा ऐसा करने का अवसर दिया जाना चाहिए।

लाएबिलिटि क्लाज मे चेंजिंग 

डाइरेक्टर्स लाएबिलिटी को अनलिमिटेड बनाने के लिए सेक्शन को बदलने की आवश्यकता है  शेयरहोल्डेर्स की लाएबिलिटि को अनलिमिटेड नहीं बनाया जा सकता है | और लाएबिलिटि में चेंज करने का डिटर्मिनेशन एक माध्यम से होना चाहिए  रिज़ॉल्यूशन की कॉपी को रजिस्ट्रार के साथ परिवर्तन के 30 दिनों के भीतर एंटर किया जाना चाहिए।

कैपिटल क्लॉज मे चेंजिंग

एक जनरल आम बैठक में ऐसा किया जा सकता है। शेयरों के सब –डिवीजन या शेयरों के एकत्रीकरण के कारण इस तरह के चेंजेज की आवश्यकता हो सकती है। उसी के लिए एक और कारण स्टॉक का कनवर्ज़न और बिना सदस्यता वाली कैपिटल  का इरेज़र (end) हो सकता है। किए गए परिवर्तन 30 दिनों के भीतर रजिस्ट्रार के पास एंटर किए जाने चाहिए।

अथराइज्ड कैपिटल मे चेंजिंग

शेयरों को जारी करने की सर्च करने वाली कंपनी के मामले में, उसे फर्म की करेंट अथराइज्ड कैपिटल  की जांच करनी चाहिए ।अथराइज्ड कैपिटल की मात्रा से अधिक समस्या नहीं हो सकती। यदि ऐसा करने की आवश्यकता है तो कंपनी की अथराइज्ड कैपिटल को बढ़ाना होगा और कंपनी के एमओए में एक्सपेकटेड चेंज करने होंगे। किसी बिजनेस के हेल्प के एडवरटाइज को बदलने के लिए प्रासेज चेंज के प्रकार के आधार पर डिफिरेंट हो सकती है। एक्जांपल के लिए एक रिगुलर आम बैठक में एक कैपिटल ब्लाक चेंज किया जा सकता है लेकिन कमोडिटी ब्लाक में अमेंडमेंट के लिए स्पेशल रिजोल्यूशन  की आवश्यकता हो सकती है मुख्य रूप से यदि कंपनी ने जनता से धन जुटाया हो।