GST अमेंडमेंट बिल

Last Updated at: Jan 13, 2021
843
वैट

जीएसटी कानूनों में संशोधन ने यह सुनिश्चित कर दिया है कि इस नई अप्रत्यक्ष कराधान (Taxation) व्यवस्था का कार्यान्वयन निर्बाध (Uninterrupted) हो जाए। आपको इस तथ्य के बारे में पता होना चाहिए कि जीएसटी संग्रह (collection) के उद्देश्य के लिए व्यवसाय की परिभाषा को बदल   दिया गया है जो केंद्र सरकार द्वारा लाया गया महत्वपूर्ण परिवर्तनों में से एक है।

1 जुलाई 2017 को माल और सेवा कर लागू किया गया था  तब तक माल के लिए अलग-अलग कर (Tax ) थे | लेकिन माल और सेवा कर लागू होने के बाद अधिकांश वस्तुओं के लिए  एक समान कर ,अठारह प्रतिशत है। इस कर प्रणाली के कई फायदे और नुकसान हैं।

  1. (Section) धारा 2 (17)

व्यवसाय की परिभाषा में संशोधन किया गया है  इसलिये कि रेस क्लब (Race club ) द्वारा इस तरह के क्लब में सट्टेबाज (Bookie) को लाइसेंस दिया जाता है जिसके माध्यम से प्रदान की गई सेवाओं को शामिल किया जा सकता है ।

  1. (Section) धारा 2 (102)

प्रतिभूतियों (Securities) में लेनदेन की व्यवस्था के लिए यह संशोधन किया गया है।

कृपया अपने व्यापार को तैयार करें

  1. (Section) धारा 9 (4)

यह धारा केंद्र सरकार को अधिकार देती है कि पंजीकृत व्यक्तियों के लिए सभी वर्गों को सामानों या सेवाओं की निर्दिष्ट श्रेणियों की आपूर्ति के संबंध में कर का भुगतान कर सकते है अथवा अपंजीकृत आपूर्तिकर्ताओं से दोनों को देने के लिए संशोधित की गई है।

We provide the GST rate finder service. By using this service, you can find the HSN code list with GST rate. This finder service is also called the HSN code finder. The HSN code is used to find the GST rates of goods and services.

 

अब मुफ्त कानूनी सलाह लें

  1. (Section) धारा 10

इसमें एक करोड़ रुपये से बढ़ाकर एक करोड़ और पचास लाख रुपये की संरचना की सीमा बढ़ाने के लिए संशोधन किया गया है

  1. (Section) धारा 17

इनपुट टैक्स क्रेडिट के दायरे को निर्दिष्ट (referred) करने के लिए संशोधित (Revised) । भूमि की बिक्री के अलावा अनुसूची 3 में निर्दिष्ट गतिविधियों पर इनपुट टैक्स क्रेडिट की अनुमति।

  1. अब इनपुट टैक्स क्रेडिट अधिक सेवाओं पर उपलब्ध होगा | धारा 25 में संशोधन किया गया है जिसके द्वारा किसी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश में कई स्थानों पर व्यापार करने वाले जो व्यक्ति है उनको इस तरह के प्रत्येक स्थान के लिए एक अलग पंजीकरण प्रदान किया जा सकता है।
  2. एक विशेष आर्थिक क्षेत्र में एक इकाई रखने वाले जो व्यक्ति है उनको विशेष आर्थिक क्षेत्र के बाहर जाना होगा | और स्थित अपने व्यवसाय के स्थान से अलग पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा।
  3. धारा 34 में आगे उल्लेख है कि एक डीलर कई चालान के लिए एक क्रेडिट नोट जारी करने की अनुमति देता है  धारा 39 के तहत एक पंजीकृत व्यक्ति जीएसटी रिटर्न में संशोधन कर सकता है।
  4. गैर-कर योग्य क्षेत्र में जहा एक जगह से सामानों की आपूर्ति दूसरे गैर-कर योग्य क्षेत्र में  कि जाती है भारत में ऐसे सामान के बिना प्रवेश करना होता है  जिसे  अनुसूची 3 में शामिल  किया गया  है जो  एक और महत्वपूर्ण संशोधन है

IGST अधिनियम में संशोधन

पहले सेवाओं के निर्यात के रूप में अर्हता (Eligibility) प्राप्त करना है एक सेवा के लिए यह आवश्यक   था कि ऐसी सेवा के लिए भुगतान परिवर्तनीय विदेशी मुद्रा में हो | और  सेवा के आपूर्तिकर्ता द्वारा प्राप्त किया जाए | लेकिन अब धारा 2 (6) के तहत सेवाओं के निर्यात की संशोधित परिभाषा के अनुसार। IGST  अधिनियम में  इस तरह का भुगतान केवल भारतीय रुपये में ही प्राप्त किया जा सकता है  जहाँ भी भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा अनुमति दी जाती है।

अंतिम तौर पर , ये जीएसटी अधिनियम के प्रभावी कामकाज के लिए भारत सरकार द्वारा वर्ष 2018 में लागू किए गए कुछ मुख्य संशोधन हैं जो खरीदार और आपूर्तिकर्ता के पक्ष में हैं।

इनपुट टैक्स क्रेडिट का दायरा भी निष्पक्ष है और जीएसटी संशोधनों की मदद से अधिक सही बनाया गया है । निर्यात के पुनर्निर्धारण (reassessment) ने सुनिश्चित किया है कि कोई अस्पष्टता (Ambiguity) नहीं है। यह संदेह से दूर  है कि खरीदारों , वस्तुओं और सेवाओं के आपूर्तिकर्ताओं (Suppliers) को इन परिवर्तनों के कारण काफी लाभ हुआ है।