Now you can read this page in English.Change language to English

जिसटी एडवाइजरी सर्विसेज


जीएसटी एडवाइजरि सर्विस किसी बिजनेस के ओवरआल टैक्स परफ़ार्मेंस पर केंद्रित हैं। यह स्टॉक ट्रांसफर, एक इनपुट टैक्स क्रेडिट, रिफंड, एवेल्युवएशन, क्लासिफिकेशन, एक्सपोर्ट प्राफ़िट जैसे फील्ड में एक स्ट्रेटेजिक अप्रोच विकसित करता है।

राज्य चुनें*
Get easy updates throughWhatsapp

आसान मासिक ईएमआई विकल्प उपलब्ध हैं

कोई स्पैम नहीं। कोई साझाकरण नहीं। 100% गोपनीयता।

noimage400,000 +

व्यापार सेवित

noimage4.3/5

गूगल रेटिंग्स

noimageसरल

पेमेंट ऑप्शन

जीएसटी एड्वाइजर आपके लिए कैसे काम करता है?

एक GST एड्वाइजर कंपनी को GST काम्प्लीएंस के साथ प्रजेंट में रहने में मदद करता है और GST फाइलिंग को सरल बनाता है। Vakilsearch आपको 3 सरल तरीकों से मदद करता है -

noimage
टैक्स रिव्यु

हमारे एक्सपर्ट जीएसटी के इंप्लीकेशन की समीक्षा करेंगे

चरण 1

noimage
noimage
ट्रंजीशन एड

ट्रंजीशन स्टेज और प्राबलम की पहचान

चरण 2

noimage
noimage
लेन-देन मैपिंग

टैक्स कोड की मैपिंग

चरण 3

0

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (भारत) – वन

भारत सरकार ने ज्यादातर डोमेस्टिक वस्तुओं और सेवाओं पर 1 जुलाई 2017 से जीएसटी यानी इंडाइरेक्ट टैक्स लागू किया है। विक्रेता प्रोडक्ट पर जीएसटी कम कर देता है और फिर आगे सरकार को ही। इसलिए हम कह सकते हैं कि जीएसटी एक राष्ट्र के लिए एक टैक्स है और यह सरकार को रिवेन्यू प्रदान कर रहा है।

जीएसटी दशकों में भारत का पहला वास्ट टैक्स इंप्रूव है। इस शासन ने टैक्स कलेक्शन को रेशनल बनाया है और काफी हद तक काम्प्लीएंस प्रासेज को सरल बनाया है। जिन बिजनेस को एक बार कई प्रकार के टैक्स के लिए रजिस्टर करना पड़ता था जैसे कि वैट , उत्पाद शुल्क , सेवा कर , सीएसटी, ऑक्ट्रोई , लक्जरी टैक्स और मनोरंजन टैक्स, - अब केवल जीएसटी रजिस्टर की आवश्यकता है। जीएसटी कड़ाई से कुछ वस्तुओं और सेवाओं की कास्ट पर लागू इंडाइरेक्ट टैक्स है जबकि इनकम टैक्स डाइरेक्ट टैक्स के अंतर्गत आता है। यह वेलयु एडेड कर डोमेस्टिक मार्केट में सभी वस्तुओं और सेवा प्रोवाइडर्स पर लगाया जाता है। हालांकि सभी बिजनेस को रजिस्टर की आवश्यकता नहीं है।

40 लाख रुपये के सालाना टर्नओवर वाले सामान की बिक्री या 20 लाख के इयरली टर्नओवर वाले किसी भी बिजनेस को जीएसटी के लिए रजिस्टर की आवश्यकता होगी | और उसके पास लीगल जीएसटी नंबर होगा। याद रखें कि GST सप्लाई पर लगाया जाता है सेल पर नहीं। इसलिए स्टॉक लेने, कन्सेशन और फ्री भी जीएसटी नेट के अंतर्गत आते हैं। दूसरे राज्यों में बेचने वाले बीजिनेसमेन को टर्नओवर की केयर किए बिना जीएसटी के लिए रजिस्टर करना होगा।

क्यों जीएसटी? लाभ

  • अनुपालन बोझ (Compliance burden) में कमी
  • करों पर कैस्केडिंग प्रभाव (Cascading effects on taxes) को हटाना
  • माल की मांग में वृद्धि (Increase in demand) जिससे माल की आपूर्ति में वृद्धि हुई
  • करों का सरलीकरण (Simplification of taxes)
  • विनिर्माण (Manufacturing) के लिए लागत (Cost) में कमी
  • सरकारी राजस्व (Revenue) में वृद्धि

जीएसटी की विशेषताएं

GST के कुछ लाभ हैं

  • काम्प्लीएंस बरडेन में कमी
  • टैक्स पर कैस्केडिंग प्रभाव को हटाना
  • गुड्स की मांग में वृद्धि , जिससे माल की आपूर्ति में वृद्धि हुई
  • टैक्स का फेसिलिटेशन
  • मैनुफैक्चरिंग के लिए कास्ट में कमी
  • सरकारी रिवेन्यू में वृद्धि

जीएसटी की विशेषताएं

जीएसटी वस्तुओं और सेवाओं पर एक वास्ट वेलयु एडेड इंडाइरेक्ट टैक्स है | जिसने भारत को एक इंटेग्रेटेड मार्केट बना दिया है।

जीएसटी की कुछ प्रमुख विशेषताएं हैं:

टैक्स स्ट्रक्चर - वस्तुओं और सेवाओं की प्रत्येक आपूर्ति के लिए एक केंद्र और राज्य टैक्स लगाया जाता है और इन्हें क्रमशः केंद्र जीएसटी (सीजीएसटी) और राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) कहा जाता है।

इनर स्टेट सप्लाई पर IGST - अंतर-राज्य आपूर्ति पर इंटेग्रेटेड GST (IGST) जहां रिवेन्यू केंद्र और कंज्यूम राज्य दोनों द्वारा शेयर किया जाता है।

एक ही लीगल यूनिट के दो इंस्तलेशन के बीच टैक्स लगाने योग्य - एजेंट और प्रिंसिपल के बीच गुड्स सप्लाई टैक्स योग्य होती है 'गिफ्ट' करने के लिए ओनर द्वारा दिए गए एम्प्लाईज़ exceedding INR 50,000 कर योग्य है।

इम्पोर्ट और एक्सपोर्ट - सभी आयात इनर स्टेट सप्लाई के रूप में माने जाते हैं और IGST को आकर्षित करते हैं। सभी निर्यात शून्य रेटेड हैं।

टैक्स एडमिनिस्ट्रेशन - कर के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली, हालांकि, जीएसटी सुविधा केंद्र , जीएसपी, एएसपी हैं जो रिटर्न, पंजीकरण आदि को दर्ज करने में करदाताओं की सहायता करते हैं।

रचना योजना

जीएसटी शासन कंपोज़ीशन स्कीम के तहत बिजनेस के लिए टैक्स लाएबिलिटीज़ को कम करता है। इन व्यवसायों के पास रुपये से कम का आपूर्ति कारोबार होना चाहिए। 50 लाख , और इनपुट-क्रेडिट का लाभ भी नहीं उठा पाएंगे। यह योजना, हालांकि, सेवा उद्योग या इनर –स्टेट सेल करने वाले बिजनेस पर लागू नहीं होगी।

भारत में GST क्या है?

29 मार्च, 2017 को भारत सरकार ने राज्य की अर्थव्यवस्थाओं को एकजुट करने और देश के समग्र आर्थिक विकास को बढ़ाने के लिए गुड्स एंड सर्विस टैक्स की घोषणा की। अधिनियम जिसके अनुसार जीएसटी एक अप्रत्यक्ष कर है जो अन्य सभी करों को कम करता है। यह अधिनियम 1 जुलाई 2017 को प्रभावी हो गया और तब से जीएसटी ने उन सभी करों को बदल दिया है जो पहले मौजूद थे। जीएसटी एक व्यापक कर है जो बिक्री के प्रत्येक चरण में लगाया जाता है।

भारत में GST प्रणाली कैसे काम करती है|

GST एक व्यापक, मूल्य वर्धित कर है जो वस्तुओं और सेवाओं के निर्माण, बिक्री और उपभोग पर लगाया जाता है। जीएसटी एक एकल एकीकृत प्रणाली है जिसे पूरे देश में लागू किया जाता है।

कैसे जीएसटी भारत को बदल देगा?

चूंकि जीएसटी करों के कैस्केडिंग प्रभाव और राज्यों के बीच इकोनामी आबस्टेकल को दूर करता है, इसलिए यह व्यवसायों और उपभोक्ताओं के लिए फायदेमंद होगा। उदाहरण के लिए यदि किसी उत्पाद पर कर की दर 20% है, तो यह केंद्र और राज्य सरकार के करों को मिलाकर है। विक्रेता एक राज्य में निर्माण कर सकता है और अन्य राज्यों को कोई कर नहीं दे सकता है। साथ ही, उपभोक्ता केवल इस अप्रत्यक्ष कर और अन्य करों के अधीन होंगे। जीएसटी सरकार को सामान्य प्रक्रियाओं के साथ एक साझा बाजार बनाने में मदद करता है, जिससे भ्रष्टाचार कम होता है।

GST Registration क्या है?

जीएसटी माल और सेवा कर को रिफर करता है जो सभी टैक्स जैसे सेल टैक्स , सर्विस टैक्स, प्रोडक्ट टैक्स आदि को जीएसटी में शामिल करता है।

जीएसटी रजिस्ट्रेशन मुख्य रूप से आवश्यक है यदि आपकी वार्षिक बिक्री रु 20 लाख से अधिक हो।भले ही आपकी बिक्री रु20 लाख से कम हो। हमारा सुझाव है कि आप स्वेच्छा से जीएसटी रजिस्ट्रेशन का विकल्प चुनें |

क्योंकि-

  • आपको खरीद पर कोई कर रिफंड नहीं मिलेगा (उदाहरण के लिए यदि आप एक वर्ष में 1 लाख रुपये का सामान खरीदते हैं, और टैक्स की रेट 28% है - तो आप कर रिफंड खो देंगे) 28,000 रुपये)।
  • आप अपने राज्य के बाहर नहीं बेच सकते हैं
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशन आमतौर पर 2-6 कार्य दिवसों के बीच होता है। आपको अपना आवेदन विभाग के साथ दर्ज करने और अपने डिजिटल सिग्नेचर के साथ सिग्नेचर करने की आवश्यकता है।

हम आपकी हेल्प किस तरह से कर सकते है? क्यों Vakilsearch?

  • हम आपको एक सेक्योर GST आइडेंटी नंबर प्राप्त करने में मदद करते हैं।
  • हम आपके लिए अपने घर के आराम से अपना जीएसटी प्राप्त करना आसान बनाते हैं।
  • हम पूरी प्रक्रिया को ऑनलाइन करते हैं।
  • हम आपके रिटर्न दाखिल करेंगे और जब भी आवश्यकता होगी अन्य सभी काम्प्लीएंस पूरा करेंगे।

Vakilsearch जीएसटी के फायदे

Vakilsearch समय लेने वाली पेपर वर्क को ईजी बनाने के लिए इंटरनेट का उपयोग कर रहा है। पिछले पांच वर्षों में, हमने हजारों स्टार्ट-अप्स को खुद को रजिस्ट्रेशन करने में हेल्प की है | अपनी इंटेलेक्चुएल प्रापर्टी की रक्षा, वेंचर कैपिटलिस्टों से धन प्राप्त करने और एमसीए के कई रूल का पालन करने में मदद की है।

स्टार्ट-उप फ्रेंडली

सभी बिजनेस रजिस्ट्रेशन और चढ़ाई का (climbing) 3%

किफायती

हर साल बचाई गई प्रोफेशनल फीस में 9 करोड़ रु

टाइम-सेविंग

42,000 घंटे भारतीय बीजिनेस ओनर के लिए फ्री हुई

सहायता

संपर्क सहायता के लिए उपलब्ध 300-मजबूत टीम का समर्थन करें

क्यों Vakilsearch

1 बीजिनेस डे

Vakilsearch आपको केवल एक कार्य दिवस में GST विशेषज्ञ के साथ जोड़ सकता है। और यदि आप पूरी तरह से सेटीस्फाइ नहीं हैं, तो हमें रिपलेसमेंट खोजने में एक और दिन लगेगा। सभी मिनिमम कीमत पर ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों।

9.1कस्टमर स्कोर

हम सरकार के साथ आपकी बातचीत को उतना ही सिंपल बनाते हैं जितना आपके लिए सभी पेपर वर्क करके संभव है। हम सही –सही आशाए को रेट करने की प्रक्रिया पर भी आपको क्लिएरिटी प्रदान करेंगे।

300 स्ट्रॉंग टीम

अनुभवी बीजिनेस एड्वाइजर्स की हमारी टीम एक फोन कॉल दूर है | क्या आपको प्रासेस के बारे में कोई प्रश्न पूछना चाहिए। लेकिन हम यह स्योर करने का प्रयास करेंगे कि आपके डाउट होने से पहले ही उन्हें साफ़ कर दिया जाए।

आज ही संपर्क करें
राज्य चुनें*

आसान मासिक ईएमआई विकल्प उपलब्ध हैं

कोई स्पैम नहीं। कोई साझाकरण नहीं। 100% गोपनीयता।