आसानी से टिन नंबर का सत्यापन करना

206

वर्तमान समय में किसी दूसरे के साथ व्यापार करना या फिर किसी डीलर से पैसा लेना या उसे देने के अलावा किसी दुकानदार से सामान खरीदना काफी आसान हो गया, जोकि टिन नंबर की वजह से ही संभव हो सका है, लेकिन यदि हम कहें कि टिन नंबर भी फर्जी हो सकता है, तो शायद आपके पैरों तले ज़मीन खिसक जाएगी। बता दें कि किसी भी दुकानदार या किसी के साथ व्यवसाय करने से पहले आपको उसके टिन नबंर का सत्यापन ज़रूर करना चाहिए, ताकि आप भ्रष्टाचार को रोकने में देश की सरकार की मदद कर सकें।

इससे पहले कि आप किसी दुकानदार या माल के डीलर को पैसा दें, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे सरकार को माल और सेवा कर देने जा रहे हैं। यह सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका है कि किसी भी विश्वसनीय ऑनलाइन टूल पर उनके जीएसटीआईएन की जांच करना। कुछ व्यवसाय अपने बिलों पर एक नकली GSTIN प्रदान करके करों से बचते हैं। ऐसे में आपको यह देखना होगा कि आप उनके जाल में न पड़ें। दरअसल, नकली का जीएसटीएन का पता लगाना बहुत आसान है।

पहली बार किसी डीलर के साथ व्यापार करने पर यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि कर दाता पहचान संख्या उद्धृत की गई सही है। यदि यह नहीं है, तो आप डीलर के जेब में केवल ‘कर’ का पैसा दे सकते हैं। यदि आप पाते हैं कि कोई विशेष डीलर ऐसा कर रहा है, तो आप उसे अधिकारियों को रिपोर्ट कर सकते हैं। ऑनलाइन खोज टूल की उपलब्धता से टिन खोज करना आसान हो गया है और आप ऐसे लोगों के खिलाफ आसानी से कार्रवाई भी कर सकते हैं। बता दें कि वकील सर्च यहां आपको टिन नंबर को सत्यापन करने का आसान तरीका बता रहा है, जिसकी मदद से आप सही या गलत में पता लगा सकते हैं।

  1. टिन नंबर सत्यापन के लिए दो चरण
  2. टिन नंबर को क्यों सत्यापित करना चाहिए?
  3. टिन नंबर क्या है?
  1. टिन नंबर सत्यापन के लिए दो चरण

टीआईएन नंबर सत्यापन एक ऑनलाइन प्रक्रिया है, जिसके माध्यम से कोई भी डीलर, यदि आवश्यक हो, तो उनसे निपटने से पहले उनके काउंटर पार्टी के टिन नंबर की जांच कर सकता है, जिसके लिए आप निम्नलिखित चरण का पालन कर सकते हैं- 

  • चरण-1: ऑनलाइन सूचना प्रणाली TINXSYS (टैक्स इंफॉर्मेशन एक्सचेंज सिस्टम) की वेबसाइट पर जाएं, जो राज्यों के वाणिज्यिक कर विभागों को अंतरराज्यीय एक्सचेंज की पहचान करने और उन्हें प्रभावी ढंग से मॉनिटर करने में मदद करने के लिए एक सरकारी पहल है, जिसके बाद टिन नंबर का सत्यापन करने की तरफ एक कदम और बढ़ जाएंगे।
  • चरण- 2: इसके बाद बस टिन दर्ज करें और परिणामों की प्रतीक्षा करें। आप डीलर का नाम, पता, पैन देखने के साथ-साथ लाइसेंस की वैधता भी देख सकेंगे, जिसके बाद आपको पता चल जाएगा कि यह नकली टिन नंबर है या फिर बिल्कुल सही है।
  1. टिन नंबर को क्यों सत्यापित करना चाहिए?

किसी भी व्यापार के लिए TIN नंबर सत्यापन आवश्यक है। वर्तमान समय में हर समय नए डीलरों के साथ बातचीत करना आम है, और वह भी, अन्य राज्यों से। इस कारण से यह जानना आवश्यक है कि कर के रूप में भुगतान किया जा रहा कोई भी पैसा सरकार के पास जा रहा है या नहीं। इसके लिए आप न सिर्फ टिन नंबर को सत्यापित करेंगे, बल्कि देश सेवा में अपना योगदान देंगे।

बताते चलें कि अब भारत में कहीं भी बैठकर आप यह जांच कर सकते हैं कि जिस व्यापारी के साथ आप व्यापार करना चाहते हैं, उसने सभी मान्य जानकारी TINXSYS के माध्यम से दी है या नहीं, जिसके बाद आप उसके साथ अपना व्यापार आगे बढ़ाने के बारे में सोच सकते हैं। बता दें कि कई बार लोग टैक्स बचाने के लिए नकली टिन नंबर का सहारा लेते हैं और देश को धोखा देते हैं, इसीलिए ऐसे धोखेबाज़ों के साथ व्यापार करने से बचना चाहिए।

  1. टिन नंबर क्या है?

एक कर दाता की पहचान संख्या (TIN) भारत में हर व्यवसाय को दी गई एक विशिष्ट पहचान संख्या है, जो VAT या मूल्य वर्धित कर और CST या केंद्रीय बिक्री कर के अंतर्गत पंजीकृत होती है। ऐसी स्थिति में जब भी कोई इंट्रा- या अंतर-राज्यीय बिक्री की जाती है, तो उसे लॉग इन किया जाता है। इसके साथ ही आपके राज्य का वाणिज्यिक कर विभाग एक बटन के क्लिक पर वैट नंबर के तहत किए गए सभी लेन देन की जांच कर सकता है। याद रखें कि टिन को सभी वित्तीय लेन देन और व्यापार पर्ची पर अनिवार्य रूप से उद्धृत किया जाना चाहिए।

प्रत्येक व्यापारी या डीलर को भारत के भीतर काम करने के लिए टिन नंबर की आवश्यकता होती है, जब उसका राजस्व 5 लाख रुपये से ज्यादा हो। यह 11 अंकों की संख्या है, जोकि पंजीकरण के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है, जिसका अपना एक अलग प्रोसेस है, लेकिन इसके बाद से व्यापार करना काफी ज्यादा आसान रहता है। बता दें कि टिन नंबर के पहले दो अंक प्रत्येक राज्य के लिए अद्वितीय हैं, इसीलिए ये हर किसी के पास अपना अलग होता है और किसी का भी किसी से मिलता जुलता नहीं है।

जीएसटीन का सत्यापन बहुत आसानी से किया जा सकता है, जिसकी वजह से आपको किसी के साथ भी व्यापार करने से पहले ही इसकी जांच कर लेनी चाहिए, ताकि आप भी किसी धोखे में न शामिल हो और देश के प्रति अपना कर्तव्य निभा सकें। इसके लिए आपको केवल एक चीज़ चाहिए और वह एक इंटरनेट कनेक्शन और एक उपकरण है, जिसमें विश्वसनीय खोज इंजन पर सरल ऑनलाइन खोज करने की क्षमता है। मतलब साफ है कि इंटनेट की मदद से अपने फोन पर भी टिन नंबर का सत्यापन कर सकते हैं। साथ ही आपको बता दें कि टिन नंबर सही सही है या नहीं यह जाँचने के लिए आप उनका GSTIN दर्ज कर सकते हैं। इसके बाद यदि आपको डेटाबेस में कुछ नहीं उपलब्ध है, तो आपको विक्रेता को जल्द से जल्द उचित प्राधिकरण को रिपोर्ट करना होगा, ताकि उसका द्वारा किए जाने वाले धोखे पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो सके।

[ajax_load_more post_type="post" repeater="default" posts_per_page="1" post__not_in="20986 button_label="Next Post"]
SHARE
A lawyer with 14 years' experience, Vikram has worked with several well-known corporate law firms before joining Vakilsearch.

FAQs