पार्टनरशिप फर्म से जुडी कुछ विशेष बातें

Last Updated at: July 20, 2020
1420
पार्टनरशिप फर्म से जुडी कुछ विशेष बातें

पार्टनरशिप फर्म क्या है?

एक व्यवसाय को शुरू करने और चलाने के लिए एक समझौते (agreement) की जरूरत होती है इसमें भाग लेने वाले लोग साझेदार (partner) होते हैं और इस प्रकार वे फर्म को एक साझेदारी फर्म (Partnership firm) कहा जाता है, और ऐसी कंपनी का नाम फर्म (firm) नाम कहलाता है।

साझेदारी (Partnership) दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच कुछ नियम और शर्ते है  एक साथ काम करने के लिए एक समझौता है। यह एक कानूनी इकाई नहीं है जबकि एक कंपनी (निजी या सार्वजनिक सीमित) एक कृत्रिम (Artificial) व्यक्ति है  एक साझेदारी केवल एक नाम है जो एक साथ काम करने वाले लोगों के समूह को दिया जाता है (भले ही यह एक पंजीकृत साझेदारी या Registered partnership हो)।

इसलिए जब भी फर्म की संपत्तिया फर्म के खिलाफ मुकदमा जैसी शर्तों (The conditions) का उपयोग किया जाता है  तो इसका मूल रूप से मतलब है साझेदार की संपत्तिया साझेदारों के खिलाफ मुकदमा  आइए हम साझेदारी की आवश्यकता और साझेदारी के महत्व को देखें।

पार्टनरशिप फर्म रेजिस्टर करें

कानूनी परिभाषा

एक साझेदारी फर्म 1932 के भारतीय साझेदारी अधिनियम द्वारा शासित (Ruled) है। धारा 4 के अनुसार   एक साझेदारी उन व्यक्तियों के बीच का संबंध है जो सभी के लिए या किसी एक के द्वारा किए गए व्यवसाय के मुनाफे ( profits) को साझा (Shared) करने के लिए सहमत (Agree) हुए हैं।

उपर्युक्त कथन (The above statement) हमें उन पांच तत्वों (Five elements) की ओर लाता है जो एक साझेदारी बनाते हैं –

  1. एक अनुबंध (contract) होना चाहिए
  2. यह दो या दो से अधिक व्यक्तियों से बना है
  3. एक व्यापार के साथ ले जाने के लिए समझौता (agreement) है
  4. वस्तु लाभ साझा (Shared) कर रही है
  5. या तो कोई व्यवसाय गतिविधि ( activity) करता है या यह किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाता है जिसने सभी भागीदारों ( partners) द्वारा नियुक्त किया है

आइए अब एक साझेदारी के उपरोक्त तत्वों (Elements above) को देखें

साझेदारी का अनुबंध

Partnership agreement

एक साझेदारी एक अनुबंध ( contract) का परिणाम (result) है और एक निश्चित स्थिति  संचालन  कानून या किसी प्रकार की विरासत (Inheritance) के कारण नहीं होता है। इसे समझाने के लिए  एक पिता का कहना है (जो एक फर्म में भागीदार भी है)कि यदि पिता मर जाता है ऐसे मामले में  उनका बेटा / बेटी साझेदारी की संपत्ति में हिस्सेदारी का दावा कर सकता है  लेकिन केवल एक बार वह एक भागीदार बन सकता है  वह अन्य मौजूदा भागीदारों (Existing partners) के साथ अनुबंध (contract) में प्रवेश कर सकता है।

एक अनुबंध (contract) एक साझेदारी फर्म का मूल (Original) है (साझेदारी फर्म के समझौते के बारे में पढ़ें ) ।

पार्टनरशिप फर्म के सदस्य

Membership Partnership Firm

इस तरह की फर्म में अधिकतम 20 भागीदार हो सकते हैं। अब  यह जानना अनिवार्य है कि भारत भागीदारी अधिनियम (Partnership act) अधिकतम सीमा को परिभाषित (Defined) नहीं करता है  लेकिन कंपनी अधिनियम (companies Act) के अनुसार  साझेदारी में अधिकतम 20 भागीदार ( partner) हो सकते हैं। इस संख्या के ऊपर  व्यवसाय अवैध (Illegal) माना जाएगा।

यह जानना अनिवार्य है कि एक साझेदारी फर्म किसी अन्य साझेदारी फर्म या व्यक्तियों के साथ साझेदारी में प्रवेश नहीं कर सकती है। इसी तरह, ध्यान रखें कि यदि एक फर्म फर्म, एक फर्म नाम के तहत, किसी अन्य फर्म या व्यक्ति के साथ एक अनुबंध (contract) में प्रवेश करती है  तो फर्म के सदस्य कानून के तहत भागीदार (Partnership) बन जाते हैं।

साझेदारी के तहत व्यावसायिक गतिविधि

Business activity under partnership

संबंधित पक्षों (Related Parties) ने एक व्यावसायिक गतिविधि करने के लिए सहमति व्यक्त की है। इसमें हर व्यापार , व्यवसाय, पेशे को लुभाने (attract) वाली व्यापक परिभाषा संभव है  इसलिए  यदि इसका चैरिटी (Charity) काम करता है  तो इसे साझेदारी फर्म (Partnership firm) के रूप में नहीं माना जाएगा।

अब कहते हैं कि व्यक्तियों का एक समूह एक निश्चित संपत्ति (fixed asset) से आय को साझा (Income sharing) करने का निर्णय लेता है या जो कुछ सामान खरीदा (Bought goods) गया है उसे विभाजित (divided) करता है  इसमें शामिल लोगों को भागीदार नहीं कहा जा सकता है क्योंकि इसमें कोई व्यवसाय शामिल (Include) नहीं है।

लाभ साझेदारी (profit sharing)

साझेदारी फर्म को चलाने का उद्देश्य शामिल भागीदारों के बीच मुनाफे ( profits) को साझा (share ) करना होता है  जैसा कि ऊपर उल्लेख (Mention above) किया गया है  कोई भी परोपकारी कार्य (charitable work) जिसमें कोई लाभ शामिल नहीं है  साझेदारी के रूप में नहीं माना जाएगा। हालाँकि मुनाफे का बँटवारा (profit sharing) जो भी उस अनुपात में तय किया जा सकता है जिसे संबंधित साथी (Related partner) पसंद करते हैं।

जितना मुनाफा बांटना उद्देश्य है  उतना ही जरूरी (Necessary) नहीं कि साझेदार नुकसान (Partner loss) भी साझा (Shared) करें। नुकसान एक व्यक्ति द्वारा भी वहन (affordable) किया जा सकता है हालांकि किसी को पता होना चाहिए कि घाटे (Losses) में उसका हिस्सा नगण्य (Share negligible) हो सकता है लेकिन बाहरी व्यक्ति के लिए उसकी देयता असीमित (Liability unlimited) रहेगी।

हालांकि  मुनाफे और नुकसान (Profits and losses) के बंटवारे को अनुबंध में स्पष्ट (Clear in contract) रूप से बताया जाना चाहिए। यदि ऐसा कोई खंड (Section) अनुपस्थित (Absent) है तो कानून के तहत इसका मतलब (Under means) है कि सभी लाभ और हानियों को भागीदारों के बीच समान रूप से साझा (Shared) किया जाना है।

आपसी समझौते (mutual agreement)

साझेदारी सभी या किसी एक साथी (partner) द्वारा की जा सकती है जिसे सभी भागीदारों (The partners) द्वारा नामित (Named) किया गया है। इस संबंध में आपसी समझौता (Mutual agreement) होना है।

इसका मुख्य रूप से मतलब है कि कभी भी भागीदार ( partner) एक एजेंट (Agent) और एक प्रिंसिपल दोनों होता है। इसका मतलब है कि वह दूसरों के कृत्यों से बाध्य (Bound by the acts of others) हो सकता है या अपने कार्यों से बाध्य (Bound by his actions) हो सकता है।

0

पार्टनरशिप फर्म से जुडी कुछ विशेष बातें

1420

पार्टनरशिप फर्म क्या है?

एक व्यवसाय को शुरू करने और चलाने के लिए एक समझौते (agreement) की जरूरत होती है इसमें भाग लेने वाले लोग साझेदार (partner) होते हैं और इस प्रकार वे फर्म को एक साझेदारी फर्म (Partnership firm) कहा जाता है, और ऐसी कंपनी का नाम फर्म (firm) नाम कहलाता है।

साझेदारी (Partnership) दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच कुछ नियम और शर्ते है  एक साथ काम करने के लिए एक समझौता है। यह एक कानूनी इकाई नहीं है जबकि एक कंपनी (निजी या सार्वजनिक सीमित) एक कृत्रिम (Artificial) व्यक्ति है  एक साझेदारी केवल एक नाम है जो एक साथ काम करने वाले लोगों के समूह को दिया जाता है (भले ही यह एक पंजीकृत साझेदारी या Registered partnership हो)।

इसलिए जब भी फर्म की संपत्तिया फर्म के खिलाफ मुकदमा जैसी शर्तों (The conditions) का उपयोग किया जाता है  तो इसका मूल रूप से मतलब है साझेदार की संपत्तिया साझेदारों के खिलाफ मुकदमा  आइए हम साझेदारी की आवश्यकता और साझेदारी के महत्व को देखें।

पार्टनरशिप फर्म रेजिस्टर करें

कानूनी परिभाषा

एक साझेदारी फर्म 1932 के भारतीय साझेदारी अधिनियम द्वारा शासित (Ruled) है। धारा 4 के अनुसार   एक साझेदारी उन व्यक्तियों के बीच का संबंध है जो सभी के लिए या किसी एक के द्वारा किए गए व्यवसाय के मुनाफे ( profits) को साझा (Shared) करने के लिए सहमत (Agree) हुए हैं।

उपर्युक्त कथन (The above statement) हमें उन पांच तत्वों (Five elements) की ओर लाता है जो एक साझेदारी बनाते हैं –

  1. एक अनुबंध (contract) होना चाहिए
  2. यह दो या दो से अधिक व्यक्तियों से बना है
  3. एक व्यापार के साथ ले जाने के लिए समझौता (agreement) है
  4. वस्तु लाभ साझा (Shared) कर रही है
  5. या तो कोई व्यवसाय गतिविधि ( activity) करता है या यह किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाता है जिसने सभी भागीदारों ( partners) द्वारा नियुक्त किया है

आइए अब एक साझेदारी के उपरोक्त तत्वों (Elements above) को देखें

साझेदारी का अनुबंध

Partnership agreement

एक साझेदारी एक अनुबंध ( contract) का परिणाम (result) है और एक निश्चित स्थिति  संचालन  कानून या किसी प्रकार की विरासत (Inheritance) के कारण नहीं होता है। इसे समझाने के लिए  एक पिता का कहना है (जो एक फर्म में भागीदार भी है)कि यदि पिता मर जाता है ऐसे मामले में  उनका बेटा / बेटी साझेदारी की संपत्ति में हिस्सेदारी का दावा कर सकता है  लेकिन केवल एक बार वह एक भागीदार बन सकता है  वह अन्य मौजूदा भागीदारों (Existing partners) के साथ अनुबंध (contract) में प्रवेश कर सकता है।

एक अनुबंध (contract) एक साझेदारी फर्म का मूल (Original) है (साझेदारी फर्म के समझौते के बारे में पढ़ें ) ।

पार्टनरशिप फर्म के सदस्य

Membership Partnership Firm

इस तरह की फर्म में अधिकतम 20 भागीदार हो सकते हैं। अब  यह जानना अनिवार्य है कि भारत भागीदारी अधिनियम (Partnership act) अधिकतम सीमा को परिभाषित (Defined) नहीं करता है  लेकिन कंपनी अधिनियम (companies Act) के अनुसार  साझेदारी में अधिकतम 20 भागीदार ( partner) हो सकते हैं। इस संख्या के ऊपर  व्यवसाय अवैध (Illegal) माना जाएगा।

यह जानना अनिवार्य है कि एक साझेदारी फर्म किसी अन्य साझेदारी फर्म या व्यक्तियों के साथ साझेदारी में प्रवेश नहीं कर सकती है। इसी तरह, ध्यान रखें कि यदि एक फर्म फर्म, एक फर्म नाम के तहत, किसी अन्य फर्म या व्यक्ति के साथ एक अनुबंध (contract) में प्रवेश करती है  तो फर्म के सदस्य कानून के तहत भागीदार (Partnership) बन जाते हैं।

साझेदारी के तहत व्यावसायिक गतिविधि

Business activity under partnership

संबंधित पक्षों (Related Parties) ने एक व्यावसायिक गतिविधि करने के लिए सहमति व्यक्त की है। इसमें हर व्यापार , व्यवसाय, पेशे को लुभाने (attract) वाली व्यापक परिभाषा संभव है  इसलिए  यदि इसका चैरिटी (Charity) काम करता है  तो इसे साझेदारी फर्म (Partnership firm) के रूप में नहीं माना जाएगा।

अब कहते हैं कि व्यक्तियों का एक समूह एक निश्चित संपत्ति (fixed asset) से आय को साझा (Income sharing) करने का निर्णय लेता है या जो कुछ सामान खरीदा (Bought goods) गया है उसे विभाजित (divided) करता है  इसमें शामिल लोगों को भागीदार नहीं कहा जा सकता है क्योंकि इसमें कोई व्यवसाय शामिल (Include) नहीं है।

लाभ साझेदारी (profit sharing)

साझेदारी फर्म को चलाने का उद्देश्य शामिल भागीदारों के बीच मुनाफे ( profits) को साझा (share ) करना होता है  जैसा कि ऊपर उल्लेख (Mention above) किया गया है  कोई भी परोपकारी कार्य (charitable work) जिसमें कोई लाभ शामिल नहीं है  साझेदारी के रूप में नहीं माना जाएगा। हालाँकि मुनाफे का बँटवारा (profit sharing) जो भी उस अनुपात में तय किया जा सकता है जिसे संबंधित साथी (Related partner) पसंद करते हैं।

जितना मुनाफा बांटना उद्देश्य है  उतना ही जरूरी (Necessary) नहीं कि साझेदार नुकसान (Partner loss) भी साझा (Shared) करें। नुकसान एक व्यक्ति द्वारा भी वहन (affordable) किया जा सकता है हालांकि किसी को पता होना चाहिए कि घाटे (Losses) में उसका हिस्सा नगण्य (Share negligible) हो सकता है लेकिन बाहरी व्यक्ति के लिए उसकी देयता असीमित (Liability unlimited) रहेगी।

हालांकि  मुनाफे और नुकसान (Profits and losses) के बंटवारे को अनुबंध में स्पष्ट (Clear in contract) रूप से बताया जाना चाहिए। यदि ऐसा कोई खंड (Section) अनुपस्थित (Absent) है तो कानून के तहत इसका मतलब (Under means) है कि सभी लाभ और हानियों को भागीदारों के बीच समान रूप से साझा (Shared) किया जाना है।

आपसी समझौते (mutual agreement)

साझेदारी सभी या किसी एक साथी (partner) द्वारा की जा सकती है जिसे सभी भागीदारों (The partners) द्वारा नामित (Named) किया गया है। इस संबंध में आपसी समझौता (Mutual agreement) होना है।

इसका मुख्य रूप से मतलब है कि कभी भी भागीदार ( partner) एक एजेंट (Agent) और एक प्रिंसिपल दोनों होता है। इसका मतलब है कि वह दूसरों के कृत्यों से बाध्य (Bound by the acts of others) हो सकता है या अपने कार्यों से बाध्य (Bound by his actions) हो सकता है।

0

No Record Found
शेयर करें