अपना बिज़नेस ट्रेडमार्क करें

Last Updated at: May 02, 2020
77
अपना बिज़नेस ट्रेडमार्क करें

 

  1. ट्रेडमार्क का विकास

  2. ट्रेडमार्क पंजीकरण क्यों आवश्यक है?

  3. ट्रेडमार्क सुरक्षा के क्या लाभ हैं?

  4. अपने व्यवसाय को कैसे ट्रेडमार्क करें?

  5. आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए सभी दस्तावेज़ों की क्या आवश्यकता है?

  6. ट्रेडमार्क की लागत

  7. भारत में विभिन्न प्रकार के ट्रेडमार्क कौन से हैं?

बिज़नेस ट्रेडमार्क का विकास

प्राचीन काल में बहुत से लोग पढ़ने और लिखने में असमर्थ थे और लोगों को यह बताने के लिए प्रतीकों (symbol ) का उपयोग किया जाता था| व्यापार और वाणिज्य के विस्तार के साथ , पहचान के उद्देश्यों के लिए ग्रीक और रोमानियाई कुम्हारों द्वारा उपयोग किए जाने वाले निशान और प्रतीक। अब मध्ययुगीन इंग्लैंड में  तलवार निर्माता आएं, जिसे अपनी तलवार में पहचान के निशान का उपयोग करने की आवश्यकता है ताकि दोषपूर्ण भाग  के निर्माताओं को सजा का पता लगाया जा सके। जैसे-जैसे समय बीतता गया उनके द्वारा उत्पादित वस्तुओं पर किसी के स्वामित्व (Ownership) को साबित की | इसके लिए आधार के रूप में चिन्हों का उपयोग किया जाने लगा। 10 वीं शताब्दी से  ‘व्यापारी चिह्न‘  या मालिकाना निशानअस्तित्व में आया। 14 वीं और 15 वीं शताब्दियों के दौरान व्यापार और  शिल्प गिल्डों के क्रमिक उद्भव (Evolution) हुआ इसके  साथ  लोगों ने माल और सेवाओं के लिए पहचान चिह्न के रूप में बिज़नेस ट्रेडमार्क ट्रेडमार्क का उपयोग करना शुरू कर दिया।

इसके अलावा  1875 के ब्रिटिश ट्रेडमार्क अधिनियम आया  जो आधुनिक दुनिया के लिए ट्रेडमार्ककी पूरी अवधारणा को औपचारिक रूप दिया। इंग्लैंड सरकार ने इस अधिनियम को कई बार रद्द किया | भारत ने 1938 के ब्रिटिश ट्रेडमार्क अधिनियम को उधार लिया और 1940 का अपना स्वयं का और पहला ट्रेडमार्क अधिनियम तैयार किया। कई मॉडलिंग और रीमॉडलिंग के बाद  ट्रेडमार्क अधिनियम 1999 , 30 दिसंबर 1999 से लागू हुआ।

ट्रेडमार्क पंजीकरण क्यों आवश्यक है?

ट्रेडमार्क एक संकेत (signal) है जो आपको अपनी कंपनी द्वारा बनाए गए उत्पादों है उनको दूसरों से अलग करने में मदद करता है। दुनिया भर में सभी प्रसिद्ध कंपनियों के पास अपने स्वयं के कुछ विशिष्ट (Specific) ट्रेडमार्क हैं। एक ट्रेडमार्क एक शब्द , नाम, प्रतीक या नारा हो सकता है। अपने ब्रांड को ट्रेडमार्क करके  अब आपको अपने जीवन का आश्वासन (Assurance) दिया जाता है कि कोई भी आपके उत्पाद को बनाने की कोशिश नहीं करेगा। यदि कोई ऐसा करता है, तो देश के कानून आपकी रक्षा करेंगे।

बिज़नेस ट्रेडमार्क पंजीकृत करें

ट्रेडमार्क सुरक्षा के लाभ

अपना बिज़नेस ट्रेडमार्क पंजीकृत करना हमेशा एक अच्छा विचार है क्योंकि यह आपको बहुत सारे लाभ प्रदान करता है । यहाँ कुछ बिंदु दिए गए हैं जो ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए औचित्य साबित करेंगे।

  • पंजीकरण करके आपका ट्रेडमार्क अन्य प्रतियोगियों को उसी नाम का उपयोग करने से रोकने में सक्षम होता है । इस तरह से आप अपने व्यवसाय को किसी भी अतिरिक्त व्यय से सुरक्षित करने का दावा कर सकते हैं जो कि दावा बस्तियों और नुकसान से संबंधित है।
  • आधुनिक व्यापार बाजार में बहुत सारे नकली हैं जो अन्य सफल ब्रांडों के डिजाइनों की नकल करके प्रसिद्ध होने की कोशिश करते हैं यदि आपके उत्पाद नकली हो जाते हैं तो आप आसानी से साबित कर सकते हैं कि आप वैध निर्माता हैं बशर्ते (Provided) आपकी कंपनी या ब्रांड ट्रेडमार्क अधिनियम के तहत पंजीकृत हो।
  • पंजीकरण करने से आपको बाजार में किसी भी पहले से मौजूद ब्रांड के बारे में पता चलता है। इस तरह आप अपने खिलाफ किए गए किसी भी झूठे मामले को खत्म नहीं करेंगे। यह आपको अपनी कंपनी को रीब्रांडिंग , रीप्रोमॉट करने और रीसेट करने से संबंधित सभी परेशानियों से भी बचाएगा।
  • आपके व्यवसाय का ट्रेडमार्क करता है आपको कुछ विशिष्ट (Specific) स्थानों के कानूनी स्वामित्व के साथ आश्वस्त (Convinced) करेगा। यह राज्य या देश के भीतर हो सकता है।
  • इसके अलावा व्यक्तिगत बैंक व्यवसाय खाते खोलने की अनुमति नहीं देते हैं जब तक कि उनके व्यवसाय में ट्रेडमार्क न हो।
  • ट्रेडमार्क आपके भीतर जिम्मेदारी की भावना लाएगा। एक मालिक के रूप में आप अपने उपभोक्ताओं को गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करते है इसके लिए अपनी कड़ी मेहनत के साथ हमेशा आगे रहेंगे।
  • इसके अतिरिक्त ट्रेडमार्क आपकी कंपनी के लिए एक संपत्ति के रूप में कार्य करता है जिसे खरीदा बेचा या लाइसेंस दिया जा सकता है। यदि कोई वितरक या दुकानदार आपके लाइसेंस का फायदा उठाने की कोशिश करता है  तो आप रॉयल्टी भी मांग सकते हैं।   

 कानूनी सलाह लें 

अपने व्यवसाय को इन निम्नलिखित तरीके से ट्रेडमार्क करें    

फिर भी, कुछ कंपनियां और मालिक हैं जो ट्रेडमार्क के पंजीकरण को स्थगित करते रहते हैं जब तक कि उनके व्यवसाय में कुछ गंभीर रूप से गलत न हो जाए। उनके लिए यहां एक विस्तृत ट्रेडमार्क फाइलिंग प्रक्रिया है जो आपकी सहायता करने के लिए है।

  • खोज: एक मालिक के रूप में, आपको पंजीकरण से पहले आगे बढ़ने से पहले अपने ट्रेडमार्क लोगो और ब्रांड नाम की एक विस्तृत जांच करनी होगी।
  • आवेदन: इसके अलावा, खोज के परिणामों के आधार पर यदि बिज़नेस ट्रेडमार्क वास्तव में आवेदक का है तो वह व्यक्ति ट्रेडमार्क आवेदन के फॉर्म को भरने के बाद अपने ब्रांड के लोगो के साथ ट्रेडमार्क प्रतीक का उपयोग करना शुरू कर सकता है।
  • पंजीकरण: इसके अलावा, बिज़नेस ट्रेडमार्क कार्यालय सबसे पहले आपके आवेदन के आधार पर एक चौतरफा जांच करेगा, ताकि कोई आपत्ति न हो। सत्यापन के बाद, कोई आपत्ति नहीं है और आवेदन मूल है, कार्यालय ट्रेडमार्क जर्नल में एक विज्ञापन बनाता है। यदि अगले चार महीनों के भीतर अन्य व्यवसाय मालिकों से कोई आपत्ति नहीं है, तो वे लगभग छह महीने बाद आपके ट्रेडमार्क को पंजीकृत करने के लिए आगे बढ़ते हैं।
  • वर्ग: विभिन्न उद्योगों से संबंधित ट्रेडमार्क को विभिन्न वर्गों के अंतर्गत वर्गीकृत (Classified) किया जाता है। इसके अतिरिक्त कुल मिलाकर वर्ग के रूप में लगभग 45 क्षेत्र हैं। आपके ट्रेडमार्क का ऐसे वर्ग के तहत पंजीकरण होना चाहिए। इसके अलावा आपके व्यवसाय के प्रकार के जो आधार है उस  पर आप एक ही समय में अपने व्यापार को विभिन्न ट्रेडमार्क के तहत पंजीकृत के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए एक आवेदन करते समय आपको जो दस्तावेज़ देने होते हैं  वे हैं-

  • अपने ब्रांड / व्यवसाय का लोगो (LOGO) ।
  • इसी तरह आपको उन्हें अपने व्यवसाय का एक संक्षिप्त विवरण देने की आवश्यकता है। बिज़नेस ट्रेडमार्क के उस वर्ग की पहचान करना आवश्यक है जिससे आपका व्यवसाय संबंधित है।
  • माल और सेवाओं का पंजीकरण।
  • पावर ऑफ अटॉर्नी की एक हस्ताक्षरित प्रति।
  • पहचान प्रमाण के रूप में व्यवसायी का आधार कार्ड , ड्राइविंग लाइसेंस या पासपोर्ट।
  • व्यवसाय के मालिक को पते के प्रमाण के रूप में प्रमाणित दस्तावेज आते है जिसे प्रदान करने की आवश्यकता है।

ट्रेडमार्क की लागत

ट्रेडमार्क पंजीकरण शुल्क हैं-

  • रु 4500 / स्टार्टअप्स व्यक्तिगत और छोटे व्यवसायों के लिए 
  • रु 9000 / – अन्य मामलों के लिए
  • रु 3500 / –ट्रेडमार्क अटॉर्नी पेशेवर शुल्क प्रति आवेदन / प्रति वर्ग।

भारत में बिज़नेस ट्रेडमार्क के प्रकार

भारत के बिज़नेस  ट्रेडमार्क अधिनियम , 1999 के आधार पर , भारत निम्नलिखित श्रेणियों के तहत ट्रेडमार्क पंजीकरण प्रदान करता है –

  • सेवा चिह्न- प्रारंभ में यह उस सेवा का प्रतिनिधित्व करता है जो किसी व्यवसाय या कंपनी में होती है।
  • वर्ड मार्क्स – यह भारत में पंजीकृत सबसे आम प्रकार के ट्रेडमार्क हैं। यह उत्पादों और सेवाओं की पहचान करता है।
  • लोगो और प्रतीक- इसके अलावा इसमें कंपनी के मुद्रित या चित्रित वर्ण (Characters) शामिल हैं जिसमें कोई अक्षर , अंक या शब्द शामिल नहीं हैं।
  • सीरीज मार्क्स- एक सामान्य प्रत्यय (Suffix) , उपसर्ग (Prefix) या शब्दांश (Syllable) के साथ ट्रेडमार्क , सीरीज मार्क्स के अंतर्गत आता है।
  • प्रमाणन चिह्न- इसके अतिरिक्त इस चिह्न का उपयोग यह बताने के लिए किया जाता है कि उत्पाद देश के नियमों के अनुसार एक विशिष्ट (Specific) गुणवत्ता मानक (quality standard) से मिला है।

यदि आप एक नवोदित (Budding) व्यवसाय के मालिक हैं  लेकिन आपने अभी तक ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं किया है  तो तुरंत जाएं। इसलिए  यह आपके व्यवसाय को किसी भी नुकसान और धोखाधड़ी के खिलाफ स्थायी आश्वासन (Permanent assurance) देगा।

 

 

 

 

 

0

अपना बिज़नेस ट्रेडमार्क करें

77

 

  1. ट्रेडमार्क का विकास

  2. ट्रेडमार्क पंजीकरण क्यों आवश्यक है?

  3. ट्रेडमार्क सुरक्षा के क्या लाभ हैं?

  4. अपने व्यवसाय को कैसे ट्रेडमार्क करें?

  5. आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए सभी दस्तावेज़ों की क्या आवश्यकता है?

  6. ट्रेडमार्क की लागत

  7. भारत में विभिन्न प्रकार के ट्रेडमार्क कौन से हैं?

बिज़नेस ट्रेडमार्क का विकास

प्राचीन काल में बहुत से लोग पढ़ने और लिखने में असमर्थ थे और लोगों को यह बताने के लिए प्रतीकों (symbol ) का उपयोग किया जाता था| व्यापार और वाणिज्य के विस्तार के साथ , पहचान के उद्देश्यों के लिए ग्रीक और रोमानियाई कुम्हारों द्वारा उपयोग किए जाने वाले निशान और प्रतीक। अब मध्ययुगीन इंग्लैंड में  तलवार निर्माता आएं, जिसे अपनी तलवार में पहचान के निशान का उपयोग करने की आवश्यकता है ताकि दोषपूर्ण भाग  के निर्माताओं को सजा का पता लगाया जा सके। जैसे-जैसे समय बीतता गया उनके द्वारा उत्पादित वस्तुओं पर किसी के स्वामित्व (Ownership) को साबित की | इसके लिए आधार के रूप में चिन्हों का उपयोग किया जाने लगा। 10 वीं शताब्दी से  ‘व्यापारी चिह्न‘  या मालिकाना निशानअस्तित्व में आया। 14 वीं और 15 वीं शताब्दियों के दौरान व्यापार और  शिल्प गिल्डों के क्रमिक उद्भव (Evolution) हुआ इसके  साथ  लोगों ने माल और सेवाओं के लिए पहचान चिह्न के रूप में बिज़नेस ट्रेडमार्क ट्रेडमार्क का उपयोग करना शुरू कर दिया।

इसके अलावा  1875 के ब्रिटिश ट्रेडमार्क अधिनियम आया  जो आधुनिक दुनिया के लिए ट्रेडमार्ककी पूरी अवधारणा को औपचारिक रूप दिया। इंग्लैंड सरकार ने इस अधिनियम को कई बार रद्द किया | भारत ने 1938 के ब्रिटिश ट्रेडमार्क अधिनियम को उधार लिया और 1940 का अपना स्वयं का और पहला ट्रेडमार्क अधिनियम तैयार किया। कई मॉडलिंग और रीमॉडलिंग के बाद  ट्रेडमार्क अधिनियम 1999 , 30 दिसंबर 1999 से लागू हुआ।

ट्रेडमार्क पंजीकरण क्यों आवश्यक है?

ट्रेडमार्क एक संकेत (signal) है जो आपको अपनी कंपनी द्वारा बनाए गए उत्पादों है उनको दूसरों से अलग करने में मदद करता है। दुनिया भर में सभी प्रसिद्ध कंपनियों के पास अपने स्वयं के कुछ विशिष्ट (Specific) ट्रेडमार्क हैं। एक ट्रेडमार्क एक शब्द , नाम, प्रतीक या नारा हो सकता है। अपने ब्रांड को ट्रेडमार्क करके  अब आपको अपने जीवन का आश्वासन (Assurance) दिया जाता है कि कोई भी आपके उत्पाद को बनाने की कोशिश नहीं करेगा। यदि कोई ऐसा करता है, तो देश के कानून आपकी रक्षा करेंगे।

बिज़नेस ट्रेडमार्क पंजीकृत करें

ट्रेडमार्क सुरक्षा के लाभ

अपना बिज़नेस ट्रेडमार्क पंजीकृत करना हमेशा एक अच्छा विचार है क्योंकि यह आपको बहुत सारे लाभ प्रदान करता है । यहाँ कुछ बिंदु दिए गए हैं जो ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए औचित्य साबित करेंगे।

  • पंजीकरण करके आपका ट्रेडमार्क अन्य प्रतियोगियों को उसी नाम का उपयोग करने से रोकने में सक्षम होता है । इस तरह से आप अपने व्यवसाय को किसी भी अतिरिक्त व्यय से सुरक्षित करने का दावा कर सकते हैं जो कि दावा बस्तियों और नुकसान से संबंधित है।
  • आधुनिक व्यापार बाजार में बहुत सारे नकली हैं जो अन्य सफल ब्रांडों के डिजाइनों की नकल करके प्रसिद्ध होने की कोशिश करते हैं यदि आपके उत्पाद नकली हो जाते हैं तो आप आसानी से साबित कर सकते हैं कि आप वैध निर्माता हैं बशर्ते (Provided) आपकी कंपनी या ब्रांड ट्रेडमार्क अधिनियम के तहत पंजीकृत हो।
  • पंजीकरण करने से आपको बाजार में किसी भी पहले से मौजूद ब्रांड के बारे में पता चलता है। इस तरह आप अपने खिलाफ किए गए किसी भी झूठे मामले को खत्म नहीं करेंगे। यह आपको अपनी कंपनी को रीब्रांडिंग , रीप्रोमॉट करने और रीसेट करने से संबंधित सभी परेशानियों से भी बचाएगा।
  • आपके व्यवसाय का ट्रेडमार्क करता है आपको कुछ विशिष्ट (Specific) स्थानों के कानूनी स्वामित्व के साथ आश्वस्त (Convinced) करेगा। यह राज्य या देश के भीतर हो सकता है।
  • इसके अलावा व्यक्तिगत बैंक व्यवसाय खाते खोलने की अनुमति नहीं देते हैं जब तक कि उनके व्यवसाय में ट्रेडमार्क न हो।
  • ट्रेडमार्क आपके भीतर जिम्मेदारी की भावना लाएगा। एक मालिक के रूप में आप अपने उपभोक्ताओं को गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करते है इसके लिए अपनी कड़ी मेहनत के साथ हमेशा आगे रहेंगे।
  • इसके अतिरिक्त ट्रेडमार्क आपकी कंपनी के लिए एक संपत्ति के रूप में कार्य करता है जिसे खरीदा बेचा या लाइसेंस दिया जा सकता है। यदि कोई वितरक या दुकानदार आपके लाइसेंस का फायदा उठाने की कोशिश करता है  तो आप रॉयल्टी भी मांग सकते हैं।   

 कानूनी सलाह लें 

अपने व्यवसाय को इन निम्नलिखित तरीके से ट्रेडमार्क करें    

फिर भी, कुछ कंपनियां और मालिक हैं जो ट्रेडमार्क के पंजीकरण को स्थगित करते रहते हैं जब तक कि उनके व्यवसाय में कुछ गंभीर रूप से गलत न हो जाए। उनके लिए यहां एक विस्तृत ट्रेडमार्क फाइलिंग प्रक्रिया है जो आपकी सहायता करने के लिए है।

  • खोज: एक मालिक के रूप में, आपको पंजीकरण से पहले आगे बढ़ने से पहले अपने ट्रेडमार्क लोगो और ब्रांड नाम की एक विस्तृत जांच करनी होगी।
  • आवेदन: इसके अलावा, खोज के परिणामों के आधार पर यदि बिज़नेस ट्रेडमार्क वास्तव में आवेदक का है तो वह व्यक्ति ट्रेडमार्क आवेदन के फॉर्म को भरने के बाद अपने ब्रांड के लोगो के साथ ट्रेडमार्क प्रतीक का उपयोग करना शुरू कर सकता है।
  • पंजीकरण: इसके अलावा, बिज़नेस ट्रेडमार्क कार्यालय सबसे पहले आपके आवेदन के आधार पर एक चौतरफा जांच करेगा, ताकि कोई आपत्ति न हो। सत्यापन के बाद, कोई आपत्ति नहीं है और आवेदन मूल है, कार्यालय ट्रेडमार्क जर्नल में एक विज्ञापन बनाता है। यदि अगले चार महीनों के भीतर अन्य व्यवसाय मालिकों से कोई आपत्ति नहीं है, तो वे लगभग छह महीने बाद आपके ट्रेडमार्क को पंजीकृत करने के लिए आगे बढ़ते हैं।
  • वर्ग: विभिन्न उद्योगों से संबंधित ट्रेडमार्क को विभिन्न वर्गों के अंतर्गत वर्गीकृत (Classified) किया जाता है। इसके अतिरिक्त कुल मिलाकर वर्ग के रूप में लगभग 45 क्षेत्र हैं। आपके ट्रेडमार्क का ऐसे वर्ग के तहत पंजीकरण होना चाहिए। इसके अलावा आपके व्यवसाय के प्रकार के जो आधार है उस  पर आप एक ही समय में अपने व्यापार को विभिन्न ट्रेडमार्क के तहत पंजीकृत के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

आपके व्यवसाय को ट्रेडमार्क करने के लिए एक आवेदन करते समय आपको जो दस्तावेज़ देने होते हैं  वे हैं-

  • अपने ब्रांड / व्यवसाय का लोगो (LOGO) ।
  • इसी तरह आपको उन्हें अपने व्यवसाय का एक संक्षिप्त विवरण देने की आवश्यकता है। बिज़नेस ट्रेडमार्क के उस वर्ग की पहचान करना आवश्यक है जिससे आपका व्यवसाय संबंधित है।
  • माल और सेवाओं का पंजीकरण।
  • पावर ऑफ अटॉर्नी की एक हस्ताक्षरित प्रति।
  • पहचान प्रमाण के रूप में व्यवसायी का आधार कार्ड , ड्राइविंग लाइसेंस या पासपोर्ट।
  • व्यवसाय के मालिक को पते के प्रमाण के रूप में प्रमाणित दस्तावेज आते है जिसे प्रदान करने की आवश्यकता है।

ट्रेडमार्क की लागत

ट्रेडमार्क पंजीकरण शुल्क हैं-

  • रु 4500 / स्टार्टअप्स व्यक्तिगत और छोटे व्यवसायों के लिए 
  • रु 9000 / – अन्य मामलों के लिए
  • रु 3500 / –ट्रेडमार्क अटॉर्नी पेशेवर शुल्क प्रति आवेदन / प्रति वर्ग।

भारत में बिज़नेस ट्रेडमार्क के प्रकार

भारत के बिज़नेस  ट्रेडमार्क अधिनियम , 1999 के आधार पर , भारत निम्नलिखित श्रेणियों के तहत ट्रेडमार्क पंजीकरण प्रदान करता है –

  • सेवा चिह्न- प्रारंभ में यह उस सेवा का प्रतिनिधित्व करता है जो किसी व्यवसाय या कंपनी में होती है।
  • वर्ड मार्क्स – यह भारत में पंजीकृत सबसे आम प्रकार के ट्रेडमार्क हैं। यह उत्पादों और सेवाओं की पहचान करता है।
  • लोगो और प्रतीक- इसके अलावा इसमें कंपनी के मुद्रित या चित्रित वर्ण (Characters) शामिल हैं जिसमें कोई अक्षर , अंक या शब्द शामिल नहीं हैं।
  • सीरीज मार्क्स- एक सामान्य प्रत्यय (Suffix) , उपसर्ग (Prefix) या शब्दांश (Syllable) के साथ ट्रेडमार्क , सीरीज मार्क्स के अंतर्गत आता है।
  • प्रमाणन चिह्न- इसके अतिरिक्त इस चिह्न का उपयोग यह बताने के लिए किया जाता है कि उत्पाद देश के नियमों के अनुसार एक विशिष्ट (Specific) गुणवत्ता मानक (quality standard) से मिला है।

यदि आप एक नवोदित (Budding) व्यवसाय के मालिक हैं  लेकिन आपने अभी तक ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं किया है  तो तुरंत जाएं। इसलिए  यह आपके व्यवसाय को किसी भी नुकसान और धोखाधड़ी के खिलाफ स्थायी आश्वासन (Permanent assurance) देगा।

 

 

 

 

 

0

FAQs

No FAQs found

Add a Question


No Record Found
शेयर करें