भारत में महिलाओं के लिए टैक्स स्लैब क्या है?

Last Updated at: Sep 16, 2020
0
295
भारत में महिलाओं के लिए टैक्स स्लैब क्या है

भारत सरकार वर्षों से महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठा रही है। ऐसा ही एक कदम है जिसमे महिलाओं को कुछ आर्थिक लाभ और रियायतें प्रदान करना है। इनमें स्टांप ड्यूटी रियायत, संपत्ति कर छूट, घर के लिए ऋण सब्सिडी, गृह ऋण पर ब्याज दर में कमी आदि शामिल हैं। वित्तीय वर्ष 2011-12 तक, अलग-अलग आयकर स्लैब पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए काम में थे।

भारत में महिलाओं के लिए कर स्लैब के अनुसार, महिलाओं को आयकर का भुगतान करते समय एक उच्च बुनियादी छूट सीमा की अनुमति थी। इसलिए, महिलाओं को पुरुषों की तुलना में थोड़ा कम आयकर देना पड़ता था। हालांकि, वित्त वर्ष 2012-13 से सरकार ने इस प्रणाली को छोड़ दिया है और महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए आम आयकर स्लैब पेश किए हैं। आजकल, महिलाओं के लिए कोई अलग आयकर स्लैब नहीं है और महिलाओं को इस तरह के कोई विशिष्ट आयकर छूट का आनंद नहीं मिलता है।

2019-20 में महिलाओं के लिए टैक्स स्लैब

आयकर स्लैब में करदाता के लिए उसकी आयु और आय के आधार पर कर की दरें लागू होती हैं। व्यक्तिगत करदाताओं के लिए तीन श्रेणियों को परिभाषित किया गया है-

  • व्यक्तिगत (60 वर्ष से कम आयु) – इसमें निवासी और अनिवासी भारतीय दोनों शामिल हैं। 
  • निवासी वरिष्ठ नागरिक – 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति (80 वर्ष से कम)
  • निवासी सुपर वरिष्ठ नागरिक – 80 वर्ष या उससे अधिक आयु के व्यक्ति)

यहां, हम उपरोक्त सभी श्रेणियों में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए लागू महिलाओं के लिए अलग-अलग आयकर स्लैब दिखाएंगे-

भारत में महिलाओं के लिए आयकर स्लैब (60 वर्ष से कम आयु)

टैक्सेबल इनकम रेंज  इनकम टैक्स रेट
2,50,000 तक शून्य
2,50,001 से 5,00,000 तक  5%
5,00,001 से 10,00,000 तक  20%
10,00,000 से ऊपर 25%

 

आयकर दाखिल करें

महिलाओं के लिए आयकर स्लैब 2019-20 भारत

(वरिष्ठ नागरिकों के लिए- 60 वर्ष या उससे अधिक लेकिन पिछले वर्ष के दौरान किसी भी समय 80 वर्ष से कम)

टैक्सेबल इनकम रेंज इनकम टैक्स रेट
3,00,000 तक शून्य
3,00,001 से 5,00,000 तक  5%
5,00,001 से 10,00,000 तक  20%
10,00,000 से ऊपर 30%

 

महिलाओं के लिए आयकर स्लैब

(सुपर वरिष्ठ नागरिकों के लिए- पिछले वर्ष के दौरान किसी भी समय 80 वर्ष या उससे अधिक)

टैक्सेबल इनकम रेंज () इनकम टैक्स रेट
5,00,000 तक शून्य
5,00,001 से 10,00,000 तक  20%
10,00,000 ऊपर   30%

कृपया ध्यान दें

  1. ऊपर वर्णित श्रेणियों में सभी व्यक्तिगत करदाताओं को स्वास्थ्य और शिक्षा कर के रूप में अतिरिक्त 4% शुल्क लिया जाएगा। यह देय कर योग्य कुल राशि पर लागू होगा।
  2. 5 लाख रुपये तक की शुद्ध कर योग्य आय वाले व्यक्तियों को धारा 87 ए के अनुसार 12,500 रुपये की मानक कटौती का लाभ मिल सकता है।

2019-20 के लिए कंपनियों के लिए आयकर स्लैब

घरेलू कंपनियों के लिए आयकर स्लैब नीचे दिया गया है-

कारोबार विशेष टैक्स रेट
वित्त वर्ष 2017-18 में 400 करोड़ रूपए तक का कुल कारोबार 25%
वित्त वर्ष 2017-18 में 400 करोड़ रूपए के पार कुल कारोबार 30%
यदि कंपनी धारा 115 बी ए का विरोध करती है 25%
यदि कंपनी धारा 115 बी ए ए का विरोध करती है 22%
अगर कंपनी धारा 115 बी ए बी का विरोध करती है 15%